PRIMARY KA MASTER शिक्षक लामबंद, आज स्कूल नहीं जाएंगे

मुख्यमंत्री ने अपने सम्बोधन में स्कूल खोलने के निर्देश दिये थे। इसमें शिक्षकों को बुलाने जैसी कोई बात नहीं थी। लेकिन कई जगहों से शिकायतें आ रही हैं कि शिक्षकों को 25 जून से स्कूल बुलाया जा रहा है। स्कूलों में शिक्षण कार्य एक जृलाई से ही शुरू होगा। लिहाजा सभी शिक्षकों से अपील है कि वे एक जुलाई को ही समय से स्कूल पहंचे। जगवीर किशोर जैन, सदस्य, विधान परिषद .

डीआईओएस के आदेश स्कूल आने के आदेश में शिक्षकों की अवकाश नियमावली का जिक्र नही है। ये भी नही बताया गया कि गर्मी की छुट्टी में शिक्षक स्कूल किस अनिवार्यता के कारण आये। ऐसे में शिक्षक ग्रीष्म अवकाश में स्कूल आने के लिए बाध्यकारी नही है ओम प्रकाश शर्मा, नेता शिक्षक दल, विधान परिषद.

राज्य मुख्यालय | विशेष संवाददाता.

शिक्षक 25 जून को स्कूल न जाने पर लामबंद हो रहे हैं। कई जिलों में अधिकारियों ने 25 जून को स्कूल आने के निर्देश दिए हैं। बीते दिनों मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 25 जून से स्कूल खोलने के निर्देश दिए थे। .

शिक्षकों का तर्क है कि शिक्षकों एवं प्रधानाचार्य को 21 मई से 30 जून तक का अवकाश शिक्षा अधिनियम/ शिक्षा संहिता में की गई व्यवस्थाओं के तहत दिया जाता है। यदि शिक्षक इस दौरान स्कूल आएगा तो उसे 6 दिन का प्रतिकर अवकाश दिया जाना चाहिए।.

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पिछले दिनों एक बैठक में डीआईओएस और बेसिक शिक्षा अधिकारियों को सभी स्कूल 25 जून से खोलने और उनमें तैयारियां पूरी करने के निर्देश दिये थे ताकि एक जुलाई को जब बच्चे स्कूल आएं तो शौचालय, पानी से लेकर साफ सफाई तक दुरुस्त रहे। .

उन्होंने 25 जून से 1 जुलाई के बीच सभी प्रधानाध्यापकों के साथ बैठक करने के निर्देश दिये हैं। .

हालांकि मुख्यमंत्री के निर्देशों में शिक्षकों का कोई जिक्र नहीं था। इसके बावजूद मेरठ, सहारनपुर, देवरिया समेत कई जिलों में अधिकारियों व स्कूल प्रबंधनों ने शिक्षकों को स्कूल आने के निर्देश जारी कर दिए हैं। .

सोमवार को जिला स्तर पर डीआईओएस और बेसिक शिक्षा अधिकारी कार्यालय में फोन घनघनाते राहे कि शिक्षकों को स्कूल क्यो आना है। .

स्कूल की तैयारियां पूरी करने के आदेश: शिक्षकों के स्कूल आने के मामले में आला अधिकारियों ने चुप्पी साध रखी हैं उनके आदेश में स्कूलों की तैयारियां पूरी करने व साफ सफाई करवाने के निर्देश हैं।